Breaking news

Drug racket: उम्र महज 21 साल, दवाइयों की आड़ में चलाता था नशे का कारोबार – how 21-yr-old lucknow lad ran global drug racket in garb of selling online medicines



 

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने एक करोड़ों के ड्रग रैकिट का भंडाफोड़ किया है। इस रैकिट को ऑनलाइन दवाएं बेचने की आड़ में लंबे समय से चलाया जा रहा था। आरोपी 21 वर्षीय युवक को हाल ही में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की टीम ने दिल्ली से गिरफ्तार किया है।

 

पथिकृत चक्रवर्ती, लखनऊ

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने एक करोड़ों के ड्रग रैकिट का भंडाफोड़ किया है। इस रैकिट को ऑनलाइन दवाएं बेचने की आड़ में लंबे समय से चलाया जा रहा था। 21 वर्षीय दीपू लखनऊ के आलमबाग स्थित एक घर से इस पूरे धंधे को ऑपरेट कर रहा था।

दीपू एक रिटायर्ड पीसीएस अधिकारी का बेटा है और लखनऊ के एक कॉलेज से होटल मैनेजमेंट का कोर्स किया है। उसे हाल ही में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की टीम ने दिल्ली से गिरफ्तार किया है। उसके घर से तलाशी के दौरान करीब 12 हजार नशीली गोलियां मिली हैं, जिन्हें दवाओं और फिटनेस सप्लिमेंट के पैकेट में पैक कर रखा गया था।

पुलिस को चकमा देने के लिए क्रिप्टो करंसी में लेता था पेमेंट

आरोपी पुलिस को चकमा देने के लिए क्रिप्टो करंसी में ही पेमेंट लेता था। इस पूरे खेल का पता तब चला जब ब्रिटेन जा रहे एक ड्रग कंसाइनमेंट को एनसीबी ने मुंबई में पकड़ा। छानबीन के दौरान 17 जनवरी को रोमानिया जा रहा एक और कंसाइनमेंट पकड़ा गया।

जांच में लखनऊ से जुड़े थे ड्रग रैकिट के तार

एनसीबी के एक अधिकारी ने बताया कि कार्गो ने केवाईसी का पालन नहीं किया था और पेमेंट भी डिजिटली कर दिया गया था। इसकी जांच करने पर भारत से तार जुड़ते दिखे। इस बीच दिल्ली में ब्रिटेन जा रहा 10,200 टेबलेट का एक और पार्सल पकड़ा गया। एनसीबी अधिकारी ने बताया, ‘हमने जब पार्सल का स्रोत पता किया, तो लखनऊ का एक अड्रेस सामने आया।’

दुनियाभर में भेजे अब तक 600 कंसाइनमेंट

अधिकारी ने बताया, ‘हमने एक सर्विलांस टीम गठित कर दीपू को पकड़ने का प्लान बनाया। गिरफ्तारी के बाद पूछताछ में उसने बताया कि वह इस धंधे में 2018 से है और अब तक करीब 600 ऐसे कंसाइनमेंट दुनियाभर में भेज चुका है।’

NBT

Source link


Translate »