Breaking news

पराली ना जलाने के प्रति डीएवी कॉलेज द्वारा निकाली गई जागरूकता रैली।



पराली ना जलाने के प्रति डीएवी कॉलेज द्वारा निकाली गई जागरूकता रैली।

डी.ए.वी कॉलेज जालंधर के एनएसएस यूनिट और रेड रिबन क्लब और यूथ सर्विस क्लब की तरफ से युवक सेवाओं विभाग जालंधर के सहयोग एवम दिशा निर्देश अनुसार मिशन तंदरुस्त पंजाब के अंतर्गत पराली ना जलाने प्रति जागरूकता सम्बंधित एक विशाल रैली जालन्धर ज़िले के गांवों नंदनपुर, नागरा, वरियाना, हीरापुर, हलरां एवम मकसूदां सब्जी मंडी में आयोजित की गई। जिस को डीएवी कॉलेज के मुख्य गेट से प्रिंसिपल डा.एस.के. अरोड़ा एवम एनएसएस कोऑर्डिनेटर प्रो. एस. के. मिड्डा ने रवाना किया। इस रैली में डीएवी कॉलेज के करीब 150 विद्यार्थियों एवम एनएसएस वॉलंटियर्स ने हिस्सा लिया।

रैली को रवाना करने से पहले प्रिंसिपल डा.एस.के. अरोड़ा ने विद्यार्थियों को अपील की कि वह रैली के मुख्य मकसद पराली को जलाना घातक है, को हर किसान तक संदेश पहुँचाए। उन्होंने कहा कि पराली जलानेे के साथ पैदा है धुएं के साथ कैंसर और साँस जैसी ओर भयानक बीमारियाँ पैदा होती हैं। हमें पराली को खेतों में बहाना चाहिए जिससे वातावरण प्रदूषण से बचा रहे और खेतों की पैदावार शक्ति भी अधिक हो सके।

इस दौरान एनएसएस कोऑर्डिनेटर प्रो. एस. के. मिड्डा ने कहा कि यदि हम सभी अपने प्यारे पंजाब को प्यार करते हैं तो हमें मिशन तंदरुस्त पंजाब के अंतर्गत हर जगह पर पराली ना जलाने प्रति, नशों प्रति, खूनदान और एडज़ प्रति जागरूकता फैलाने से पीछे नहीं हटना चाहिए। जिस के साथ स्वस्थ पंजाब को फिर बाबा नानक के स्वप्न का का पंजाब बना सके। उन्होंने कहा कि पराली जलाने के साथ ज़मीनी कीड़े और आसमानी पंछियों की प्रजातियां लुप्त हो रही हैं। वातावरण में ज़हरीले गैसों के साथ हमारे ग्लोबल पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

इस रैली में डा. साहिब सिंह, प्रो. परमजीत कौर एवम कॉलेज के विद्यार्थी एवम एनएसएस वॉलंटियर्स शामिल रहे।


Translate »