Breaking news

कार में घूम रहा था संदिग्ध वर्दीधारी, फौजी अफसर ने पुलिस बुलाई तो उतरा आर्मी कैप्टन का नकाब



 

    • तरनतारन के झब्बाल बाईपास स्थित बाठ एवेन्यू में रहने वाले सुखजिंदर सिंह उर्फ खैहरा के रूप में हुई पहचान

 

    • पहले पिता भी थे सेना में, अब खुद ही कंप्यूटर की मदद से तैयार किए फर्जी पहचान पत्र और दूसरे दस्तावेज

 

    • सैन्य अफसर सुमेर कौल ने शक होने पर किया पुलिस कंट्रोल रूम में फोन, सिविल लाइन पुलिस ने दबोचा संदिग्ध

 

 

Mera Bharat News

Aug 26, 2019, 12:49 PM IST

अमृतसर. अमृतसर सिविल लाइन थाने की पुलिस ने सेना के फर्जी कैप्टन को कार में घूमते हुए गिरफ्तार किया है। इसका भेद तब खुला, जब एक सैन्य अधिकारी ने शक होने पर पुलिस कंट्रोल रूम में फोन किया। पुलिस ने जब आरोपी को हिरासत में लिया तो वह सेना की वर्दी में था। उसके कब्जे से सेना की दो वर्दियां, सेना का फर्जी पहचान पत्र, सेना के बैज, कार और अन्य दस्तावेज बरामद हुए हैं। सब इंस्पेक्टर बलजीत सिंह ने बताया कि आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है।

आरोपी की पहचान कपूरथला के खैहरा मज्झा सिंह से आकर तरनतारन स्थित झब्बाल बाईपास स्थित बाठ एवेन्यू में बसे सुखजिंदर सिंह उर्फ खैहरा के रूप में हुई है। खासा कैंप के पास रहने वाले सेना के अफसर सुमेर कौल अजनाला रोड पर किसी काम से पहुंचे थे। उन्होंने कार में सवार सेना की वर्दी पहने एक व्यक्ति को देखा। जब उस पर शक हुआ तो कौल ने तुरंत पुलिस के कंट्रोल रूम को शिकायत कर दी। सारे शहर में नाकाबंदी कर दी गई और कुछ ही दूरी पर थाना सिविल लाइन की पुलिस ने आरोपी को दबोच लिया। तलाशी के दौरान आरोपी के कब्जे से कार में रखी सेना के कैप्टन रैंक की वर्दी बरामद की गई।

पूछताछ के दौरान आरोपी की बातों से पहले जांच अधिकारी भी प्रभावित हो गया, लेकिन जब गहनता से जांच की गई तो पता चला कि दिखाए जाने वाले पहचान पत्र फर्जी हैं। पुलिस ने कार में रखे सेना के फर्जी बैज और कई और दस्तावेज भी बरामद किए हैं। थाने लाकर पूछताछ की गई तो आरोपी सुखजिंदर सिंह ने बताया कि ये दस्तावेज उसने खुद ही कंप्यूटर की सहायता से तैयार किए हैं। इसके अलावा पता यह भी चला है कि उसके पिता भी सेना में तैनात थे।

 

Source link


Translate »